दान देने से तनाव नहीं होता

लोग अक्सर कहते हैं कि क्या करें बहुत तनाव रहता है. शहरी जीवन में तो तनाव जैसे अनिवार्य हिस्सा हो गया है. एक दिन एक जानकारी मिल गये कहने लगे कि हर साल शहरों में शराब की बिक्री में 300 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो रही है. मुझे लगता है कि ये शराब पीनेवाले लोग शौकिया शराब नहीं पी रहे. उनकी मजबूरी है. शराब न पियें तो मर जाएं क्योंकि दिन भर इतनी प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करना होता है कि शराब उन्हें थोड़ा तनाव से अस्थाई तौर पर मुक्त करती है. शराब के भरोसे ही सही कम से कम थोड़ी देर के लिए इंसान अपने साथ हो जाता है.

इसलिए आप कितना भी कह लो कोई शराब छोड़ता नहीं. जो शराब पीता है वह खुद शराब नहीं पीना चाहता लेकिन धीरे-धीरे उसकी मानसिक अवस्था इतनी कमजोर हो जाती है कि वह शराब छोड़ नहीं सकता. इसलिए उसकी निंदा करने की बजाय उपाय खोजने की जरूरत है. तनाव को दूर भगाने के लिए सबसे बढिया तरीका है दान देना.

आप भी सोचेंगे यह क्या बेहूदी बात हुई. दान देने से तनाव का क्या लेना देना? लेकिन लेना-देना है और बहुत गहरा लेना देना है. जिनके पास कुछ नहीं है क्या आपने कभी उतना तनावग्रस्त देखा है जितना उन्हें जिनके पास बहुत कुछ है. आप अध्ययन कर लीजिए जिसकी पाने की मानसिकता होती है वह हमेशा तनाव में रहता है. लेकिन जो कुछ पाना ही नहीं चाहता उसे कभी तनाव नहीं होता. कबीरदास कहते हैं-

चाह गयी चिंता मिटी मनुवा बेपरवाह

जिनको कछु न चाहिए, सोई शाहंशाह.

बात बहुत साधारण है. पाने की मानसिकता हमारे दुख का कारण है. जो जितना पाना चाहता है वह उतना ही दुखी रहता है. फिर आप सोचेंगे कि पाना न हुआ तो जीवन कैसे चले? फिर हमारे होने का मतलब क्या है? यह बात सही है इच्छा का विस्तार होता है तो संसार बनता है. और जब संसार बनता है तो दुख औऱ तनाव तो आयेंगे ही.

फिर इससे बचने का रास्ता क्या है? तनाव से बचने का एक ही रास्ता है आप चुपचाप दान करना शुरू कर दें. जिंदगी पाने और देने के समन्वय से चलती है. केवल पाते गये तो बहुत संकट हो जाएगा. भरते भरते आदमी खुद एक भार हो जाता है. इसलिए भरने के साथ साथ खाली होने की प्रकृया  भी चलनी चाहिए. जितना मिल रहा है उसका एक निश्चित हिस्सा हमारे हाथ से लोगों तक पहुंचना भी चाहिए. आज हो यह रहा है कि हमारी पाने की प्रवृत्ति तो बनी हुई है लेकिन देने की मंशा खत्म हो गयी है.

आप एक प्रयोग करिए. रोज कुछ दान करना शुरू करिए. अपनी कमाई का एक निश्चित हिस्सा. बस देना शुरू करिए. ज्यादा तर्क-वितर्क मत करिए. कुछ दिनों का प्रयोग मानकर इसे शुरू कर दीजिए. मान लीजिए कि यह आपकी साधना है. यही आपकी आराधना है. यही रामजी की पूजा है. एक सप्ताह ऐसा करके देखिए. आपको अपने व्यक्तित्व में क्रांतिकारी परिवर्तन नजर आयेगा. आप देखेंगे कि आपके दुख अपने आप कम होने लगे. आपको अब उतना तनाव भी नहीं रहता. अब आप अपनी समस्याओं को लेकर इतने परेशान भी नहीं रहते. मन में अंदर से एक आनंद प्रस्फुटित होना शुरू हो जाएगा.

ऐसा हो तो एक सप्ताह के प्रयोग के बाद इसे अपने जीवन का अनिवार्य हिस्सा बना लीजिए. यह मत सोचिए कि आप कितना कमाते हैं. 100 रूपया रोज कमानेवाला भी महादानी हो सकता है और 100 हजार रूपये रोज कमानेवाला भी महाकंजूस. सवाल पैसे का नहीं है. सवाल है आपकी मानसिकता का. आपको अपनी मानसिकता का इलाज करना है. बुद्धि को वह अभ्यास करवाना  है जिसे वह भूल चुका है. और इसी कारण उस बुद्धि ने आपके लिए तनाव के हजार रास्ते बना रखे हैं. इसलिए आप कितना पैसा दान करते हैं यह महत्वपूर्ण नहीं है. आप दान करते हैं यह महत्वपूर्ण है और आपके अपने लिए जरूरी भी.

वैसे  तो नियम है कि आप अपनी कमाई का 10 प्रतिशत दान दें लेकिन आपकी अपनी जरूरते शायद ज्यादा होंगी. इसलिए अपनी कमाई का एक प्रतिशत दान करना शुरू करिए. ध्यान रखिए यह नित्यप्रति होना चाहिए क्योंकि आप नित्यप्रति के हिसाब से ही कमाते हैं. अपनी कमाई का एक प्रतिशत समाज के कमजोर और निसहाय लोगों की मदद में खर्च करना शुरू करिए. कोई हल्ला नहीं. कोई प्रचार नहीं. क्योंकि यह काम आप अपने इलाज के लिए कर रहे हैं. क्या आप अपने इलाज का प्रोपोगंडा करते हैं क्या? आप खुद अनुभव करेंगे कि आप अंदर से कितने बड़े हो गये हैं. तनाव तो खोजे नहीं मिलेगा. 

 ।। अलख निरंजन ।।

Advertisements

2 Responses

  1. स्वागतम!

    आपका विचार बिल्कुल सही है। किन्तु इसे आजमाने का साहस भी तो होना चाहिये?

  2. mai ise jarur ak baar aajmana chahuga. Lekin mai berojgar hu to kya kru upaas btaye.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: