अच्छे विचारों की जमा-पूंजी

भौतिक अभाव बाद में आते हैं पहले अच्छे विचारों का अभाव आता है. संकट बाद में पैदा होते हैं पहले संस्कृति नष्ट होती है. मानों आपके शरीर में कोई रोग आ गया है अब आप इसका इलाज करते हैं लेकिन यह कौन पता करेगा कि रोग क्यों आया? अच्छा डॉक्टर कारण का निवारण करता है रोग का नहीं. ऐसे ही समाज में, जीवन में, संबंधों में आये संकट का निवारण करने के लिए आपको कारण की तलाश करनी चाहिए.

एक बात तय है कि अच्छे विचार संकट में हैं. नोटों के बैंक भरे हैं लेकिन विचारों का बैंक खाली है. नोट से कुछ होता है क्या जी……. नोट से कुछ नहीं होता. नोट तो माध्यम हैं. उसको खर्च करनेवाला जैसा होगा नोट वैसा ही काम करेगी. असली धन तो विचार हैं. उसकी चिंता करते नहीं और परेशान रहते हैं कि सबकुछ होते हुए भी जीवन में कमी है, अभाव है. आपके पास अगर कुछ अच्छे विचार हैं तो उसको बहुत संभालकर रखिये. जैसे बैंक का लॉकर होता है उसी तरह अपने जीवन में भी एक लॉकर बना लीजिए. कुछ भी हो जाए उस लॉकर को तोड़ना नहीं. जब संकट आये तो बैंक के लॉकर में जाने से पहले अपने अच्छे विचारों वाले लॉकर में जाना. संकट के समय नोट जितना काम आता है उससे भी अधिक अच्छे विचार काम आते हैं.

मेरे देश के शहरों में पागलपन का दौरा पड़ा हुआ है. खूब कमाओ, खूब खर्च करो. लोग पैसा कमा रहे हैं, फिर भी देश में संकटग्रस्त लोगों की संख्या पहले से अधिक बढ़ गयी है. ऐसा क्यों हो रहा है? क्योंकि पैसा बहुत केन्द्रित हो गया है. उसको खर्च करने के तरीके बदल गये हैं. हम पैसा कमाना चाहते हैं क्योंकि हमें बहुत सारे ब्रान्डों को अपने घर में सजाना है. जितना अधिक पैसा उतने मंहगे ब्रान्ड और सामान. यह सब पागलपन नहीं तो और क्या है? दुनिया के किसी और देश में ऐसा होता तो समझ में आता है, भारत में हो रहा है. भारतीय कर रहे हैं. सामान में सुख खोज रहे हैं.

मैं मानता हूं यह अच्छे विचारों के अकाल का दौर है. बहुत कम लोग बच गये हैं जो अच्छे विचार को पाल-पोस रहे हैं. ऐसे लोगों की खोज करनी चाहिए. आपके अपने दिमाग में जो अच्छे विचार हैं उसको संरक्षित और संवर्धित करिए. ऐसा भूलकर भी मत कहिए – अच्छे विचारों की कोई कद्र नहीं है. अच्छे विचारों की आज बहुत जरूरत है. आप पर यह जिम्मेदारी है कि अच्छे विचार के अनुसार जीवन जिएं और बिना एक शब्द बोले अपने जीवन को अपना संदेश बनाने की कोशिश करें.

आपके पास अपने लिए और दूसरों के लिए क्या अच्छे विचार हैं, एक दो लाईन में हमें भी बताएं जिससे मैं वे विचार एकसाथ प्रकाशित कर सकूं.

हरि ऊँ तत् सत्

Advertisements

10 Responses

  1. no one can read so much.

  2. jisko yeh veham ho jaye ki upri hawa ne tujhe preshan kiya hai. Oor uska samay kaphi beet chuka hai. Umeed hai shayad theek ho jaye. Usko achhe vichar aana ya sochna mushkil hai. Mujhe bataien.

  3. dirty people always think dirty

  4. हरि ऊँ तत् सत्

  5. hello sir,
    i am poornima. i want to help always poor people.
    i want to define the poor people.poor people,they want to help someone.if you help their person ,so plz don’t think help them.

  6. i am poornima. i want to help always poor people.
    i want to define the poor people.poor people,they want to help someone.if you help their person ,so plz don’t think help them.

  7. I think that all the people in this world, why they don’t think positively to others, if i can do then i make all the mind of this world as so. After then here no poor, no thief, no brief, no no no bad thing. That means i m not saying all peoples are thinking so, but some people thing bad to other so that we all suffer from them….

  8. mera prayas hota hai ki agar kuch bhala na kar sako to kam se kam kbhi bhi kisi ka bura na karu. sath hi har samay yahi prayas karta ho ki kisi ka bhi bhala mujh se kisi bhi roop me hojai

  9. Please send me nice thought in my gmail ID ( in Hindi)
    ID name- shiva.34198@gmail.com

  10. mera niratar ye prayas ki kese khud ko ak nek insan banau? Mere man me ye vichar aata h ki jis prakar logo ne pese ko is naswar sansar me itna mhatav diya ja rha h, jiske paas pesa, gadi, bangla ha uski log misal deke kahte h ki vesa bano. To kya bhagwan ka hume niche bejne ka maksad pesa kma kar ekatha karna tha. Log ak minute ke liye ye kyu nahi sochte ki aakir uparwale ka hume is duniya me jiv ke rup me bhejne ka kya maksad ha ?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: